हम पीना चाहते है.. उनकी निगाहों से,
हम जीना चाहते हैं.. उनकी पनाहों में,
हम चलना चाहते हैं.. उनकी राहों में,
हम मरना चाहते हैं.. उनकी बाहों में!

Click to copy

सकून मिलता है जब उनसे बात होती है,
हज़ार रातों में वो एक रात होती है,
निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ,
मेरे लिए वो ही पल पूरी कायनात होती है।

Click to copy

हमने जो की थी मोहब्बत वो आज भी है,
तेरे जुल्फों के साये की चाहत आज भी है,
रात कटती है आज भी ख्यालों में तेरे,
दीवानों सी मेरी वो हालत आज भी है,
किसी और के तसब्बुर को उठती नहीं,
बेईमान आँखों में थोड़ी सी शराफत आज भी है।

Click to copy

मुझको छूके मुझको छूके पिघल रहे हो तुम ,
मेरे हमराह जल रहे हो तुम। चाँदनी छन रही है बादल से ,
जैसे कपड़े बदल रहे हो तुम। पायलें बज रही हैं रह रह कर ,
ये हवा है कि चल रहे हो तुम। नींद भी टूटने से डरती है ,

मेरे ख़्वाबों में ढल रहे हो तुम।

Click to copy

अगर तुम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता,
तुम्हारे चहरे को कमल कौन कहता,
यह तो करिश्मा है मोहब्बत का,
वरना पत्थर को ताज महल कौन कहता।

Click to copy

मेरी आँखों में झाँकने से पहले,
जरा सोच लीजिये ऐ हुजूर..
जो हमने पलके झुका ली तो कयामत होगी,
और हमने नजरें मिला ली तो मुहब्बत होगी।

Click to copy

किसी को उनसे मिल के इश्क़ हुवा,
किसी को उनको देख के इश्क़ हुवा,
एक हम ही थे जो उनको न देखे न मिले,
हमको तो उनसे हुई बातों से ही उनसे इश्क़ हुवा।

Click to copy

किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह,
वो मिला भी हमसे अजनबी की तरह,
किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी,
छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह।

Click to copy