चाँदनी लेकर ये रात आपके आँगन में आये,
आसमान के सारे तारे लोरी गा कर आपको सुलायें
आपके इतने प्यारे और मीठे हों सपने आपके,
कि आप सोते हुए भी सदा मुस्कुराएं..!!!
((शुभ रात्रि))

Click to copy

रात गुमसुम हैं मगर चाँद खामोश नहीं,
कैसे कह दूँ फिर आज मुझे होश नहीं,
ऐसे डूबा तेरी आँखों के गहराई में आज,
हाथ में जाम हैं,मगर पिने का होश नहीं|
((शुभ रात्रि))

Click to copy

वो ‪‎चाँद‬ है मगर आप से प्यारा तो नहीं !‬‬
परवाने का शमा के बिन गुजारा तो नहीं !
मेरे ‪‎दिल‬ ने सुनी है एक मीठी सी आवाज़ !‬‬
लगता है कहीं आपने मुझे पुकारा तो नहीं !!
((शुभ रात्रि))

Click to copy

अब ना बातो की जरुरत हैं,
निगाहो से अब सारी बात कीजिये
बड़ा उजाला हैं आपके नूर से,
जुल्फे खोल के अब रात कीजिये!!
((शुभ रात्रि))

Click to copy

बड़ी मुद्दत से इंतजार में हूँ,
आपके सिरहाने नींद के लिए
अपनी बाहों का सहारा दे के
मुझे ये हसीन खवाब दीजिये!!
((शुभ रात्रि))

Click to copy

तेरे बिना कैसे गुज़रेंगी ये रातें
तन्हाई का ग़म कैसे सहेंगी ये रातें
बहुत लम्बी है घड़ियां इंतज़ार की
करवट बदल बदल कर कटेंगी ये रातें!!
((शुभ रात्रि))

Click to copy

मिलने आएंगे हम आपसे ख़्वाबों में
ज़रा रोशनी के दिए बुझा दीजिए
अब और नहीं होता इंतज़ार आपसे मुलाक़ात का
ज़रा अपनी आँखों के परदे तो गिरा दीजिए!!
((शुभ रात्रि))

Click to copy

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है
रात होती है तो आँखों में उतर आता है
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है!!
((शुभ रात्रि))

Click to copy